कैप्टन अमरिंदर पूर्व सांसदों, विधायकों के साथ बीजेपी में शामिल

Dav

नई दिल्ली, (द स्टैलर न्यूज़): पंजाब के दो बार के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कई राजनीतिक और सैन्य लड़ाइयों के दिग्गज, आज केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर, किरेन रिजिजू और अन्य वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। उपस्थित लोगों में वरिष्ठ नेता अश्विनी शर्मा, सुनील जाखड़ और अन्य गणमान्य शामिल थे।
कैप्टन अमरिंदर सिंह के अलावा आज भाजपा में शामिल होने वालों में पूर्व डिप्टी स्पीकर अजायब सिंह भट्टी, पूर्व सांसद अमरीक सिंह अलीवाल, केवल सिंह, पूर्व विधायक प्रेम मित्तल, हरचंद कौर, हरजिंदर थेकेदार, पंजाब महिला कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष बलबीर रानी सोढ़ी, रणिंदर सिंह, बीबा जया इंदर कौर, निर्वाण सिंह, कमलजीत सैनो और फरजाना आलम, जिनका प्रतिनिधित्व उनकी बेटी ने किया, क्योंकि वह विदेश में भाजपा मुख्यालय गईँ हैं।
  भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने से पहले  कैप्टन अमरिंदर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। कैप्टन अमरिन्दर सिंह और अन्य का पार्टी में स्वागत करते हुए श्री तोमर ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हमेशा राष्ट्रीय हितों को दलगत हितों से ऊपर रखा है। उन्होंने कहा कि उनके पार्टी में शामिल होने से पंजाब में भाजपा और मजबूत होगी।
  कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने उन पर भरोसा जताने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा का आभार व्यक्त किया। उन्होंने आश्वासन दिया कि वह पंजाब में पार्टी को मजबूत करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देंगे।
  कई राजनीतिक और सैन्य लड़ाइयों के दिग्गज कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पिछले साल मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस छोड़ दी थी। उन्होंने अपना खुद का राजनीतिक संगठन, पंजाब लोक कांग्रेस की स्थापना की, जिसने भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन में फरवरी 2022 का विधानसभा चुनाव लड़ा।
  कैप्टन अमरिंदर, देश के सबसे लोकप्रिय और करिश्माई राजनीतिक नेताओं में से एक हैं, जो करिश्मा रखते हैं और सभी विभाजनों को काटते हुए पंजाब में बहुत सम्मान और प्रभाव प्राप्त करते हैं। कांग्रेस को 2022 की हार और हार के बाद अपने महत्व का एहसास हुआ, जब वह 82 सीटों से घटकर मात्र 18 रह गई।
  कैप्टन अमरिंदर सिंह को इसका श्रेय जाता है कि उनके कारण ही कांग्रेस पंजाब में 2002 और 2017 में दो बार सरकार बना सकी। ऑपरेशन ब्लूस्टार और 1984 में दिल्ली में सिख विरोधी दंगों के बाद कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस 2007 और 2012 में हारने के बाद भी एक मजबूत राजनीतिक ताकत में रही। हार के बावजूद उसका मतदान प्रतिशत लगभग विजयी अकाली-भाजपा गठबंधन के बराबर था।
  कैप्टन अमरिंदर सिंह समान रूप से मजबूत राष्ट्रवादी साख के साथ मजबूत पंथिक साख को जोड़ते हैं। उन्होंने ऑपरेशन ब्लूस्टार के विरोध में 1984 में संसद और कांग्रेस पार्टी से भी इस्तीफा दे दिया था। उस समय इंदिरा गांधी जैसी प्रतिभा की अवहेलना करना कोई सामान्य निर्णय नहीं था। कैप्टन अमरिंदर उस समय महज 42 साल के थे और अपने राजनीतिक करियर को खतरे में डाल रहे थे। दो साल बाद दरबार साहिब में पुलिस के घुसने पर उन्होंने फिर से बरनाला सरकार से इस्तीफा दे दिया था।
  2004 में, कैप्टन अमरिंदर ने पंजाब के पानी को बचाने के लिए पंजाब विधानसभा में पिछले सभी जल बंटवारे समझौतों को रद्द करते हुए अपना मुख्यमंत्री पद दांव पर लगा दिया था। उन्होंने उस समय पंजाब के पानी को बचाने के लिए अपनी पार्टी अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी तक का विरोध किया, जो राजनीतिक हालात में बेहद कठिन निर्णय था।  
  कैप्टन अमरिन्दर के पास समान रूप से मजबूत राष्ट्रवादी साख है। विभिन्न मुद्दों पर उनके राष्ट्रवादी रुख के अलावा, बहुत से लोग नहीं जानते हैं कि कैप्टन अमरिंदर 1964 में पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध लड़ने के लिए फिर से सेना में शामिल हुए थे। पश्चिमी मोर्चे पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सेना कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरबख्श सिंह के साथ युद्ध में देश प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाई। उन्होंने पारिवारिक व्यस्तताओं के कारण समय से पहले सेवानिवृत्ति ले ली थी। लेकिन बाद में युद्ध छिड़ने के बाद, वह सेना में फिर से शामिल हो गए थे। इस बात में कोई आश्चर्य नहीं कि उनके भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद उनसे हर किसी को अपेक्षा है। गौर हो कि कैप्टन अमरिंदर सिंह जब भाजपा में नहीं थे तब भी वह भाजपा समर्थकों में सबसे अधिक प्रशंसित नेता रहे हैं।
  कैप्टन अमरिंदर सिंह की साख और करिश्मे के साथ-साथ भाजपा ने जो बड़ी उम्मीदें जगाई हैं, वे निश्चित रूप से 2024 के आम चुनावों से पहले पंजाब में राजनीतिक संतुलन और समीकरणों को बदल देंगे।

Advertisements
GNA University

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here