मेयर, सीनियर व डिप्टी मेयर को बधाई पर हाउस में विपक्षी पार्षदों को बोलने का मौका न देना निंदनीय: पार्षद जिम्पा

Hospital vaccination Punjab Govt. Advt. Punjab Govt. Advt. Punjab Govt. Advt.
Punjab Govt. Advt. Punjab Govt. Advt. Punjab Govt. Advt.
Punjab Govt. Advt.

होशियारपुर (द स्टैलर न्यूज़)। नगर निगम के नवनिर्वाचित मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर व डिप्टी मेयर को बधाई है तथा इसके साथ ही इस बात का भी दुख है कि हाउस में विपक्षी पार्षदों को बोलने का मौका नहीं दिया गया। जोकि बहुत ही निंदनीय है। इसकी सारी जिम्मेदारी लोकल मंत्री की है, जिन्होंने विपक्षी पार्षदों को अनदेखा किया और हाउस में पहली बैठक में ही मनमर्जी करके सत्ताधारी होने के कारण सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया।

Advertisements

यह बात वार्ड नंबर 6 के पार्षद ब्रह्मशंकर जिम्पा ने आज यहां जारी एक प्रैस विज्ञप्ति में कही। पार्षद जिम्पा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी निगम चुनाव बहुमत से जीती है तथा यह तो स्वभाविक ही था कि मेयर उन्हीं की पार्टी का बनना था। लेकिन हाउस में विपक्षी पार्षदों का संवैधानिक हक छीन कर जनता में अच्छा संदेश नहीं दिया गया। क्योंकि, हाउस ने सर्वसम्मति से मेयर चुना और संवैधानिक तौर पर सभी को अपनी बात रखने का हक था। एक तरफ तो सत्ताधारी नेतागण मिलजुल कर काम करने की नसीहत कर रहे थे तो दूसरी तरफ बैठक में विपक्षी पार्षदों को बोलने का मौका तक नहीं दिया गया, यह कैसा मिलापड़ापन है? इसका जवाब स्थानीय मंत्री दें।

पार्षद जिम्पा ने कहा कि मेयर, सीनियर व डिप्टी मेयर उनके पुराने साथी हैं तथा उन्होंने शहर की भलाई के लिए एक साथ बहुत सारे कार्य किए हैं तथा उन्हें खुशी है कि उन्हें निगम में जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं। उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि विपक्षी दल की अनदेखी करने वालों को जनता किसी भी कीमत में माफ नहीं करेगी, क्योंकि वे भी जनता द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि हैं और अगर जनता के प्रतिनिधियों के साथ ऐसा व्यवहार किया जाएगा तो आने वाले समय में ऐसे नेताओं को भी जनता के रोष का सामना करना पड़ेगा। श्री जिम्पा कहा कि यह बात जनता के सामने है कि एक मंत्री ने उन्हें हराने के लिए कितना जोर लगाया और सरकारी मशीनरी का किस कद्र दुरुपयोग किया। लेकिन जिसके साथ जनता होती है उसे किसी के सहारे की जरुरत नहीं होती तथा नगर निगम में भी अगर उनके या उनके साथियों के वार्ड के साथ भेदभाव किया गया तो वह संघर्ष का रास्ता अपनाने से भी गुरेज नहीं करेंगे और इसकी सारी जिम्मेदारी स्थानीय मंत्री की होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here