2790 लावारिस मृत लोगों का हरिद्वार में श्राद्ध करेंगे हमीरपुर के शांतुनु 

Dav
GNA University

हमीरपुर(द स्टैलर न्यूज़), रिपोर्ट: रजनीश शर्मा। हमीरपुर के प्रसिद्ध समाजसेवी शांतनु के जुनून को कोरोना काल भी विचलित न कर पाया। शांतनु अब तक 2790 लावारिस शवों की अस्थियों को हरिद्वार में विसर्जित कर चुके हैं। उनके मोबाईल नंबर‭ 9418096502‬ पर लगातार लावारिस शव मिलने की सूचना पुलिस प्रशासन व आम जनता से मिलती रहती है। सच कहें तो शांतुनु अपने आप में ही संस्था बन चुकी है।  गौरतलब है कि शांतनु आज तक 2790 लावारिस शवों की अस्थियों को हरिद्वार गंगा में बहा चुके हैं।  वह स्वयं अपने ख़र्च पर यह पुनीत कार्य कर रहे हैं।  शांतनु लावारिस शवों को कर्मकांड प्रक्रिया का कार्य पिछले 28 सालों से करते आ रहे हैं। अब वह 25 सितंबर  को हरिद्वार में एक साथ 2790 लावारिस मृत लोगों का श्राद्ध करनें जा रहे है। इसके लिए वह 22 सितंबर को हमीरपुर से रवाना होंगे।

Advertisements

यह इस काम के लिए किसी से भी मदद नहीं मांगते हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें समाज सेवा का शौक बचपन से ही था। यह शौक उन्हें आगे चलकर लोगों की मदद करने में सहायता करता है, परंतु बाद में अचानक लावारिस शवों के अंतिम संस्कार के बाद उनकी अस्थियां विसर्जित व कर्मकांड करने की इच्छा प्रबल हुई और उसी के बाद उन्होंने अपने मन में यह विचार लाया कि हिमाचल में कहीं भी लावारिस शवों के बारे में पता चलता है तो वह तुरंत उनका अंतिम संस्कार और कर्मकांड करने के लिए सक्रिय हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि इसमें उन्हें खुशी मिलती है। 

शांतनु ने कहा कि जब तक वे जिंदा हैं, समाज सेवा करते रहेंगे और लावारिस शवों का अंतिम संस्कार और कर्मकांड की प्रक्रिया करते रहेंगे। शांतनु ने लोगों से आग्रह किया है कि उनके क्षेत्र में अगर कोई भी लावारिस शव पाया जाता है तो अंतिम संस्कार के बाद उनकी अस्थियां उन्हें भेज दें, ताकि उन दिवंगत आत्माओं की गति की जा सके और इस पुण्य काम के भागीदार बनें। उन्होंने कहा कि श्राद्धों में अपने पितरों का श्रद्धा के साथ  श्राद्ध जरूर कर लेना चाहिए ताकि पितरों की कृपा बनी रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here