सभी विभागाध्यक्ष सुनिश्चित करें कि उनके अधिकार क्षेत्र के संस्थानों में मच्छरों के पनपने का कोई कारण न रहे: डिप्टी कमिश्नर

होशियारपुर (द स्टैलर न्यूज़)। जिला स्तरीय डेंगू तालमेल कमेटी और तंबाकू नियंत्रण टास्क फोर्स कमेटी की बैठक आज जिला प्रबंधकी परिसर के मीटिंग हॉल में माननीय डिप्टी कमिश्नर होशियारपुर कोमल मित्तल की अध्यक्षता में आयोजित की गई। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम अधिकारी, सभी सीनियर चिकित्सा अधिकारी एवं विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

Advertisements

सिविल सर्जन डॉ. बलविंदर कुमार डमाणा के नेतृत्व में जिला एपीडिमोलोजिस्ट डाॅ. जगदीप सिंह ने बैठक की औपचारिक शुरुआत करते हुए जिले में चल रही डेंगू की रोकथाम व बचाव संबंधी गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महीने के प्रत्येक शुक्रवार को फ्राई डे-ड्राई डे के रूप में मनाने में सभी विभाग पूर्ण सहयोग दें। उन्होंने विभिन्न विभागों द्वारा दिये जाने वाले सहयोग एवं की जाने वाली गतिविधियों के बारे में चर्चा की। इसके साथ ही उन्होंने तंबाकू नियंत्रण के लिए कोटपा अधिनियम के तहत की जाने वाली गतिविधियों और कार्रवाई के बारे में भी बताया।

 बैठक में उपस्थित अधिकारियों को निर्देश देते हुए डिप्टी कमिश्नर श्रीमती कोमल मित्तल ने कहा कि डेंगू एवं अन्य वेक्टर जनित बीमारियों की रोकथाम के लिए जागरूकता बहुत जरूरी है, स्वास्थ्य विभाग सहित जिले के विभिन्न विभाग एवं गैर सरकारी समाज सेवी संस्थाएं मिलकर कार्य करें। अधिक से अधिक गतिविधियाँ आरंभ करें। सभी विभागों के प्रमुखों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके संबंधित अधिकार क्षेत्र के संस्थानों में कहीं भी मच्छरों के प्रजनन का कोई कारण नहीं है। उन्हें व्यक्तिगत रूप से अपने कार्यालयों का दौरा करना चाहिए। बीडीपीओ को चालान काटने के साथ-साथ जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने शिक्षा अधिकारी माध्यमिक एवं प्रारंभिक को स्कूलों में सुबह की सभा के दौरान बच्चों को शिक्षा देने को कहा। उन्होंने जिला उद्योग अधिकारी को विभिन्न उद्योगों में कार्यरत श्रमिकों को डेंगू के प्रति जागरूक करने का निर्देश दिया और कहा कि वे इस कार्य के लिए शहर की स्वयंसेवी संस्थाओं का भी सहयोग ले सकते हैं। उन्होंने गांवों में जागरूकता एवं रोग निवारण गतिविधियों में तेजी लाने के लिए पंचायती राज विभाग को प्रत्येक ब्लॉक स्तर पर पंचों/सरपंचों की बैठक आयोजित करने के निर्देश दिये।

उन्होंने तम्बाकू की रोकथाम के संबंध में निर्देश जारी करते हुए कहा कि समाज सेवी संस्थाओं के सहयोग से तम्बाकू विक्रय स्थलों पर लगे साइन बोर्डों की जांच की जाये तथा जन जागरूकता सूचना बोर्ड लगाये जायें तथा स्कूल-कॉलेजों के विद्यार्थियों को  तम्बाकू के प्रभाव के प्रति जागरूक किया जाये। उन्होंने कहा कि जिले के अंतर्गत कोटपा अधिनियम (2003) के विभिन्न प्रावधानों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों का भी चालान किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here