होशियारपुर (द स्टैलर न्यूज़), रिपोर्ट: संदीप डोगरा/जतिंदर प्रिंस। पैट्रोल एवं डीजल के मूल्यों में वृद्धि के विरोध स्वरुप कांग्रेस कार्यकर्ताओं की तरफ से कैबिनेट मंत्री सुन्दर शाम अरोड़ा की अगुवाई में जिला कांग्रेस कमेटी कार्यालय के समक्ष केन्द्र सरकार के खिलाफ धरना दिया गया। धरने उपरांत कांग्रेसी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने जिलाधीश को मांगपत्र भी सौंपा। मांगपत्र में कैबिनेट मंत्री सुन्दर शाम अरोड़ा ने मांग की कि पैट्रोल एवं डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी ने देशवासियों को असीम पीड़ा एवं परेशानियां दी हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ पूरे देश कोरोना के कारण स्वास्थ्य एवं आर्थिक महामारी से लड़ रहा है तथा वहीं दूसरी तरफ मोदी सरकार पैट्रोल एवं डीजल की कीमतों और उस पर लगने वाले उत्पादन शुल्क को बार-बार बढ़ाकर इस मुश्किल घड़ी में मुनाफाखोरी कर रही है। जिसकी जितनी निंदा की जाए कम है।

Advertisements
TripleM Hoshiarpur

श्री अरोड़ा ने बताया कि मई 2014 में जब भाजपा ने केन्द्र में सत्ता संभाली थी तो पैट्रोल पर उत्पादन शुल्क 9.20 रुपये प्रतिलीटर एवं डीजल पर 3.46 रुपये प्रति लीटर था। पिछले 6 सालों में केन्द्र की भाजपा सरकार ने पैट्रोल पर उत्पादन शुल्क 23.78 रुपये प्रति लीटर एवं डीजल पर 28.37 रुपये प्रीत लीटर अतिरिक्त बढ़ोतरी कर दी है। चौंकाने वाली बात है कि पिछले 6 सालों में भाजपा सरकार ने डीजल उत्पाद शुल्क में 820 प्रतिशत तथा पैट्रोल पर उत्पादन शुल्क 258 प्रतिशत की वृद्धि की है। मोदी सरकार ने केवल पैट्रोल और डीजल पर लगने वाले उत्पादन शुल्क में बार-बार वृद्धि करके बी पिछले 6 सालों में 10 लाख करोड़ रुपये कमा लिए हैं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने बार-बार उत्पादन शुल्क बढ़ाकर मुनाफाखोरी की सभी हदें पार कर दी हैं, जबकि कोविड-19 के इस समय में देशवासियों को राहत दी जानी चाहिए थी।

कांग्रेसी कार्यकर्ताओं और नेताओं ने पैट्रोल व डीजल के बढ़े दामों के विरोध स्वरुप दिया धरना, जिलाधीश को सौंपा मांगपत्र

उन्होंने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में कमी के बावजूद केन्द्र द्वारा रेट बढ़ाए जाने उनकी गलत नीतियों को प्रदर्शित करता है। जिसका खामियाजा देश की जनता को भुगतना पड़ रहा है। पैट्रोल एवं डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण महंगाई बढ़ी है तथा यह पहली बार हुआ है कि डीजल के रेट पैट्रोल से अधिक हो गए हैं। श्री अरोड़ा ने कहा कि देशवासियों की इस लूट को कांग्रेस कबी बर्दाश्त नहीं करेगी तथा मोदी सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि 5 मार्च 2020 से अब तक उत्पादन शुल्क में की गई बढ़ोतरी तुरंत वापिस ली जाए तथा इस मुश्किल घड़ी में देशवासियों को राहत पहुंचाई जाए। अगर, केन्द्र इस मामले को गंभीरता से नहीं लेती तो कांग्रेस द्वारा बड़े स्तर पर संघर्ष छेड़ दिया जाएगा। जिसकी सारी जिम्मेदारी केन्द्र की मोदी सरकार की होगी।

इस दौरान धरने को जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डा. कुलदीप नंदा, नगर सुधार ट्रस्ट के चेयरमैन एडवोकेट राकेश मरवाहा, बीसी कमिशन पंजाब के चेयरमैन सरवन सिंह, इंडस्ट्री डेवेल्पमेंट कारपोरेशन पंजाब के उपचेयरमैन ब्रह्मशंकर जिम्पा, मार्किट कमेटी के चेयरमैन राजेश गुप्ता, ब्लाक अध्यक्ष कैप्टन कर्मचंद, जिला महिला कांग्रेस अध्यक्षा तरनजीत कौर सेठी सहित अन्य नेताओं ने भी संबोधित किया और केन्द्र की लोकविरोधी नीतियों को जमकर कोसा। इस मौके पर रजनीश टंडन, हरीश आनंद, सुमेश सोनी, नवप्रीत रैहल, ध्यान चंद ध्याना, प्रदीप बिट्टू, कुलविंदर सिंह हुंदल, बलविंदर बिंदी, कुलदीप अरोड़ा, अशोक मेहरा, संदीप नंदा, अश्विनी शर्मा, सेवा सिंह, परमजीत टिम्मा, सुरिंदर सटियाला, रमेश डडवाल, अशोक शर्मा, मुकेश डावर, लक्की मरवाहा, मनमोहन सिंह कपूर, कुलदीप अरोड़ा, सुरिंदर बीटन, दीप भट्टी, परमजीत कौर, रविंदर कौर, नीलम देवी, रंजना देवी, नवनीत कौर, मनदीप कौर, सुखविंदर कौर, सत्या देवी सहित अन्य कांग्रेस नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here